Xossip

Go Back Xossip > Mirchi> Stories> Hindi > mai leena aur mausaa mausee मैं लीना और मौसा मौसी

Reply Free Video Chat with Indian Girls
 
Thread Tools Search this Thread
  #71  
Old 25th September 2012
kasturimgm kasturimgm is offline
Custom title
 
Join Date: 31st October 2008
Posts: 1,361
Rep Power: 17 Points: 1204
kasturimgm is a pillar of our communitykasturimgm is a pillar of our communitykasturimgm is a pillar of our communitykasturimgm is a pillar of our communitykasturimgm is a pillar of our communitykasturimgm is a pillar of our community
UL: 330.41 mb DL: 2.17 gb Ratio: 0.15
mast rapchik update

Reply With Quote
  #72  
Old 25th September 2012
mukeshhrs mukeshhrs is offline
 
Join Date: 31st July 2008
Posts: 37
Rep Power: 16 Points: 88
mukeshhrs is beginning to get noticed
UL: 9.36 gb DL: 2.36 gb Ratio: 3.96
jiyo dear

Reply With Quote
  #73  
Old 26th September 2012
reborn_again's Avatar
reborn_again reborn_again is offline
Sharing is Caring
  Silver Coins: Contributed $25-$100 for XP server fund      
Join Date: 30th July 2011
Posts: 18,634
Rep Power: 29 Points: 8273
reborn_again has celebrities hunting for his/her autographreborn_again has celebrities hunting for his/her autographreborn_again has celebrities hunting for his/her autographreborn_again has celebrities hunting for his/her autographreborn_again has celebrities hunting for his/her autograph
UL: 6.89 gb DL: 14.39 gb Ratio: 0.48
super hot updates

Reply With Quote
  #74  
Old 26th September 2012
kausam73 kausam73 is offline
 
Join Date: 20th October 2011
Posts: 315
kausam73 has disabled reputations
UL: 761.49 mb DL: 387.13 mb Ratio: 1.97
OK, Let us begin ending the story, after all how much can the same characters do?


us raat hamane aaraama kiyaa. sab kaafee thak gaye the. mausi boleen "aaj sustaa lo, kal se din bhar chudaaee hogee. koee peeche nahee hategaa, apanee apanee chootlen aur land kaa khayaal rakho aur unako mast rakho" mausi boleen. "Leena betee, too kal aaraama kar, aaj jaraa jyaadaa hee mastee kar lee toone"
"are nahee mausi, yahaan aaraama karane thodxe aaee hoon! aur ye aise nahee chodxoongee in donon badamaashon ko" usakaa ishaaraa Raghu aur Rajju kee or thaa. "aur mausajee bhee saste choo jaaylenge. ye teenon roj dopahar chaar ghant mere liye rizarv hain. inako itanaa chodoongee ki in teenon ke land nunnee ban kar raha jaaylenge" Leena mastee me laraj kar bolee.

agalaa haftaa aise beet gayaa ki pataa hee nahee chalaa. subaha hama der se uthate the. nahaa dho kar khaanaa khaakar Leena mausajee ke saath khet ke ghar me chalee jaatee thee jahaan Raghu aur Rajju usakee raaha dekhate the. mein Radha aur mausi ghar me raha jaate the. din bhar mastee chalatee thee. donon land kee aisee bhookhee thee ki bas baaree baaree se mujhase chudawaateen. beech beech me khoob khaatiradaaree karateen, har do ghante me badaama doodh deteen.

Leena jab shaama ko aatee thee to usakaa cheharaa dekhate banataa thaa. chehare par ekadama shaitaanee jhalakatee thee aur ek sukoon saa rahataa thaa ki kyaa majaa aayaa. aisee dikhatee thee jaise malaaee khaakar billee dikhatee hai. usakee haalat kisee chote bachche see thee jise manachaahe khilaune mil jaaylen to khel khel kar thak jaaye fir bhee khelataa rahataa hai. itanaa chudawaatee thee Leena ki usase chalaa bhee nahee jaataa thaa. meine ek baar kahaa bhee ki raanee, jaraa samhaal ke, is taraha se apanee choot aur gaand kee dhajjiyaan mat udxawaao to mujhe tok detee "tumhe kyon pareshaanee ho rahee hai mere sainyaa jab mein khush hoon? pareshaan mat ho, aaraama karane ko to bahut samaya milegaa jab hama waapas jaaylenge. tab choot aur gaand fir taait kar loongee das din me. tab tak in teenon landon kaa majaa to le loon. aur wo Raghu aur Rajju ke land to bemisaal hain." Raghu Rajju aur mausajee usake aage peeche aise ghoonate jaise usake gulaama hon aur wo malikaa.

raat ko sab itane thak jaate ki so jaate. pahalee raat ko mausajee ke saath milakar hamane jo mastee kee thee usakee yaad mujhe aatee thee. mausi aur Radha kee bur aur gaand se mujhe bahut sukh milataa thaa par kabhee kabhee mausajee kee gaand kee yaad aatee thee, kitanaa majaa aayaa thaa us raat unakee maarane me. kyaa goree chikanee garamaa garama gaand thee mausajee kee. mein sochataa thaa ki jaane ke pahale kama se kama ek baar to mausajee kee phir se maaroongaa.

hafte bhar ye chudaaee chalee. jab hame jaane ko do din bache to us raat mausi ne khud hee rok lagaa dee. "chalo, bahut ho gayaa, ab sab log aaj aur kal aaraama karo."

Leena pair patakakar bolee "mausi, aise mat karo, ab do din me hama chale jaaylenge, tab tak aur majaa kar lene do"

"betee, teree choot to haradama pyaasee rahatee hai par in mardon ko dekho, inake ab jor se khade bhee nahee hote. toone to inako pooraa nichodx liyaa hai. inhlen aaraama kar lene do. inake landon me taakat aa jaayegee. parason ek khaas prograama karlenge, tumhaare jaane ke pahale"

"theek hai mausi" Leena ke dimaag me baat ghus gayee, shaayad sach me Raghu aur Rajju ke land ab jhad jhad kar murajhaane ko aa gaye the "inako aaraama karane do, par aap kee aur Radha kee bur to abhee bhee taajee hai. mein aap ke saath kheloongee ab. aap donon ke saath theek se wakt nahee nikaalaa meine, jaane ke pahale ab inako mein man bhar ke chakhanaa chaahatee hoon"
"dheeraj rakh bahu, sab ho jaayegaa. par aaj tu bhee aaraama kar" mausi Leena kaa choonmaa lekar boleen.

Reply With Quote
  #75  
Old 26th September 2012
kausam73 kausam73 is offline
 
Join Date: 20th October 2011
Posts: 315
kausam73 has disabled reputations
UL: 761.49 mb DL: 387.13 mb Ratio: 1.97
us din bhar hama log bas soye, aur kuch nahee kiyaa. Raghu aur Rajju ko bhee mausajee ne chuttee de dee. Radha bas khaanaa banaane aayee aur chalee gayee.

doosare din subaha mausi ne Leena ko bulaayaa. Leena waapas aayee to bahut khush thee.

meine poochaa. "khush lag rahee ho darling. koee khushakhabar? upawaas khatama ho gayaa hai lagataa hai. mausi ne bulaayaa hai kyaa?"

Leena bolee "ek khushakhabar aur ek buree khabar hai. buree khabar ye ki upawaas aaj din bhar chalegaa."

meine kahaa "are re .... meraa land ab fir se mast tanatanaa rahaa hai. dopahar ko jaraa mauj mastee karate. fir khushakhabaree kyaa hai?"

"mausi ne raat ke khaane ke baad sabako unake kamare me bulaayaa hai. kapade utaar ke. badee mood me hain. kahatee hain ki upawaas ke baad aaj daawat hogee raat ko. aaj majaa aayegaa dekhanaa raajaa."

mein aur Leena raat ko kapade utaar ke jab mausi ke kamare me gaye to dekhaa ki sab wahaan jamaa the aur poore nange the. aaj palang baajoo me kar diyaa gayaa thaa aur poore farsh par gaddiyaan bichee thee. mausi aur Radha lipat kar baithee thee. mausajee Rajju aur Raghu ke beech baithe the aur apane donon haathon me unake land le kar muthiyaa rahe the.

"ye to pooraa jamaghat lagaa hai mausi. koee khaas baat hai kyaa?" meine poochaa.

"aaj ek khaas khel hone waalaa hai. train trair kaa" mausi muskaraatee huee boleen.

"kaisaa khel mausi? train tren khel kaisaa hotaa hai?" Leena ne poochaa.

"are train me ladies aur Gent comaprtment alag alag hote hain naa. aaj hama log bhee alag alag rahlenge. mard alag aur auraten alag. ek compartment se doosare compratment me jaanaa manaa hai aaj"

"ye kyaa mausi? land alag aur choot alag? mujhe aur land chaahiye" Leena pair patakakar bolee

"meree chudail bahu raanee, too jaroor hamaaraa naama roshan karegee" mausi ne Leena kaa haath pakadakar kahaa "aree hafte bhar to land hee land liye hain toone. aur baad me aur le lenaa, fir se jaldee gaaon aa jaa, Anil ko chuttee na ho to khud akelee aa jaanaa aur is baar mahane bhar rahanaa. too kahegee to ek do aur mast land tere liye jamaa karake rakhoongee, Raghu aur Rajju ke ek do chachere bhaaee hain, bade mast jawaan launde hain. aaj ye khel dekh le, tere mausajee kaa bahut man hai ye khelane kaa"
"par mausi, mujhako bhee dekhanaa hai naa, Anil kaise ye waalaa khel khelataa hai" Leena shokhee se bolee.

"aree fikar kyon karatee hai, sab dikhegaa. too mein aur Radha yahaan is taraf, ledeez kanpaartamet. aur tere mausajee, Rajju Raghu aur Anil yahaan doosaree taraf, jlent kanpaartamet, donon kanpaartamet yaheen is kamare me banlenge. tere mausajee to hameshaa khelate hain. aaj aur majaa aayegaa, Anil jo hai. chal aa jaa Leena betee" Leena kaa haath pakadakar mausi ne usako paas bithaa liyaa. Radha to Leena ke peeche chipatakar usake mamme dabaane lagaane lagee thee.

"wahaan se dikhegaa betee, fikar mat kar. aur Anil ko kuch karane kee jaroorat nahee hai, ye teenon usako sikhaa dlenge"

"aao Anil. yahaan baitho" mausajee bole. mein unake paas jaakar baithane lagaa to unhonne meraa haath pakadakar apanee god me bithaa liyaa. "wahaan nahee yahaan baitho bete. hama to kab se tumhaaraa intajaar kar rahe hain, kyon bhaabhee, khel shuroo karlen?"

"haan karo naa, jaan pahachaan badhaa lo. waise meine Vimala baaee ko bhee bulaayaa hai. bade din ho gaye usase mile. kal achaanak aa gayee to meine kahaa ki aaj raat ko aa jaao, hamaaree bahu se bhee jaanapahachaan badhaa lo. bas aatee hogee."

tabhee baahar se kisee aurat kee aawaaj aayee "mausi, aap kahaan ho?"

mausi chillaa kar boleen. "hama yahaan hai mere kamare me. tuma bhee aa jaao, aur taiyaar hokar aanaa Vimala. khel shuroo hee hone waalaa hai. bas tumhaaraa hee intajaar thaa. mere kamare me kapade nikaal ke rakh de"

Reply With Quote
  #76  
Old 26th September 2012
kausam73 kausam73 is offline
 
Join Date: 20th October 2011
Posts: 315
kausam73 has disabled reputations
UL: 761.49 mb DL: 387.13 mb Ratio: 1.97
mein mausajee kee god me baith gayaa. unakaa land meree peeth se sataa thaa. "lo Raghu aur Rajju, aakhir Anil aa gayaa hamaare saath. lo ab ise theek se pyaar karo. tuma log kab se peeche lage the mere ki Anil bhaiyaa se theek se jaan pahachaan karaa do hamaaree, ab dekhlen kaisee sewaa karate ho usakee, isakee beewee ko to tumane khush kar diyaa, ab isakee khushee par dhyaan do"

mujhe thodxaa ajeeb lag rahaa thaa. mein bolaa "are aisee koee baat nahee hai mausajee, aap chaaho to abhee bhee Leena ko is kanpaartamet me bulaa lo"

"bhaabhee ko to hama fir se agalee baar le hee llenge Anil bhaiyaa, abhee tuma to aao aise" Rajju bolaa.

"kyaa gore chitte hain Anil bhaiyaa. bade mast dikhate hain" Raghu bolaa aur mere saamane neeche baith gayaa. meraa land haath me lekar bolaa "aur ye land to dekh Rajju, ekadama raseelaa gannaa hai" fir usako choonane aur chaatane lagaa.
mausajee mere nipal masalate hue meree gardan pyaar se choona rahe the. Rajju meree jaanghon par haath firaa rahaa thaa "Anil bhaiyaa kaa badan to khobaa hai khobaa bhaiyaajee. aur inake honth kitane khoobasoorat hain! bilakul Leena bahuraanee jaise hee hain. choonmaa lene ko man karataa hai bhaiyaajee"

mausajee peeche se mere baalon me sir chupaa kar meree gardan ko choonate hue bole "to le le naa, Anil kyaa manaa kar rahaa hai"
Rajju ne turant mere honthon par honth rakh diye aur mere pet aur jaanghon ko sahalaane lagaa. usakaa hattaa kattaa badan mere badan se lagaa huaa thaa. mein chaar paanch minit bas baithaa rahaa, sochaa kar lene do in logon ko unake man kee. par fir man me mastee chaane lagee. saamane mausi aur Radha jaise Leena ko pakadakar aage peeche se lagee huee thee, dekh dekh kar aur mastee chadh rahee thee. meine Rajjukaa land haath me le liyaa aur apanee jeebh usake munha me daal dee. Rajju usako choosane lagaa. usakaa land meree hathelee me thirak rahaa thaa.

udhar Raghu ab meraa land munha me liye thaa. bade pyaar se supaadaa munha me lekar usako laddoo jaise gapaagap choos rahaa thaa. Rajju ne choonmaa todxaa aur mausajee ko bolaa. "bhaiyaajee, Anil bhaiyaa ko neeche sulaa do to jaraa hama theek se unake badan ko dekh llen"

mausajee ne mujhe litaa diyaa aur teenon mujhase lipat gaye. koee meree jaanghon ko choonataa to koee land munha me letaa. koee mere honth choonataa to koee mere chootad sahalaane lagataa. jab kiseene mere chootad failaakar meraa gudaa choosanaa shuroo kar diyaa to mein mastee se jhoona uthaa.
"maan kasama kyaa gaand hai Anil bhaiyaa kee. ekadama maal hai" mere peeche se Rajju kee aawaaj aayee. fir usane munha meree gaand se lagaa diyaa.

"meine bolaa thaa naa ki kal tujhe ek mast gaand doongaa. le ho gayee tasallee" mausajee mere munha par apanaa land ragadate hue bole.

"abhee kahaan bhaiyaajee, tasallee to tab milegee jab mein is khoobasoorat gaand me land daalakar chodoongaa." Rajju bolaa.
"haan haan chod lenaa, par baad me. pahale mein kheloongaa. yaane tuma logon se khilawaaoongaa. aaj bade din baad teen land ek saath mile hain. aaj mein majaa karoongaa, teenon land ek saath loongaa. Anil bete, tere ko koee pareshaanee to nahee hai?" mein kuch bol nahee paayaa kyonki mausajee kaa land mere munha me thaa. udhar ek lambee see jeebh meree gaand me ghus kar mujhe gudagudee kar rahee thee.

mausi boleen "are nahee, Anil ko kyaa pareshaanee hogee. Anil bete, jab se too aayaa hai, tere mausajee aas lagaaye baithe hain. ek saath teen land lenaa chaahate hain. pahale hee kahane waale the par bahu ko dekhakar munha me paanee aa gayaa, bole, pahale teen chaar din bahu ke badan se kheloongaa, usako khush karoongaa aur fir khud kee pyaas bujhaaoongaa. aaj inako khush kara do bete. sunate ho Raghu aur Rajju. aaj pahale bhaiyaajee kee kas ke sewaa karo aur fir baad me Anil kee. Anil yahaan se pyaasaa nahee jaanaa chaahiye. chootlen to bahut milatee hain usako, usakee khud kee beewee itanee matawaalee hai par aise teen teen land usane kabhee nahee liye honge"

tabhee darawaajaa khulaa aur ek aurat andar aayee. waha bhee ekadama nangee thee sirf braa pahane hue thee. umar pantees ke kareeb hogee. gale me sone kee badee maalaa thee, kaan me jhoonar aur kalaaiyon par choodxiyaan. badee bindee lagaaye hue thee, maang me sindoor bharaa thaa. braa me kasee choonchiyaan motee motee thee, aur badan achchaa khaayaa piyaa huaa thaa. pet ke neeche ghane baal the.

"aao Vimala, badee der lagaa dee, kab se raaha dekh rahe the tumhaaree. aur is baar bahut din baad gaaon aayee ho, chaha mahane se jyaadaa ho gaye."

"der ho gayee iseeliye to kapade utaar kar hee aayee mausi. meraa matalab hai bur khol kar aayee hoon, jisako pyaas lagee ho wo choos le" Vimala baaee boleen.

mausajee bole "bur khulee hai badee achchee baat hai Vimala baaee par fir mamme kyon nahee khole?"

mausi jhallaa kar boleen "ab tuma kyon auraton ke beech bol rahe ho? aaj tuma bas landon kee socho. Vimala ke doodh aataa hai so braa baandh ke aayee hai ki chalak na jaaye, meine hee kahaa thaa ki aakar hamaare yahaan jo khoobasoorat mehamaan aaye hain unako chakhaa jaanaa"

"kahaan hai bahu raanee? achchaa ye hai. badee pyaaree hai, ye to kal jaa rahee hogee, aap logon ne iskee khaatiradaaree kee yaa nahee?" Vimala baaee bolee. fir Leena ke paas baith gayee. Leena ko god me kheenchaa aur choonane lagee.

Reply With Quote
  #77  
Old 26th September 2012
kausam73 kausam73 is offline
 
Join Date: 20th October 2011
Posts: 315
kausam73 has disabled reputations
UL: 761.49 mb DL: 387.13 mb Ratio: 1.97
उस रात हमने आराम किया. सब काफ़ी थक गये थे. मौसी बोलीं "आज सुस्ता लो, कल से दिन भर चुदाई होगी. कोई पीछे नहीं हटेगा, अपनी अपनी चूतें और लंड का खयाल रखो और उनको मस्त रखो" मौसी बोलीं. "लीना बेटी, तू कल आराम कर, आज जरा ज्यादा ही मस्ती कर ली तूने"

"अरे नहीं मौसी, यहां आराम करने थोड़े आई हूं! और ये ऐसे नहीं छोड़ूंगी इन दोनों बदमाशों को" उसका इशारा रघू और रज्जू की ओर था. "और मौसाजी भी सस्ते छू जायेंगे. ये तीनों रोज दोपहर चार घंट मेरे लिये रिज़र्व हैं. इनको इतना चोदूंगी कि इन तीनों के लंड नुन्नी बन कर रह जायेंगे" लीना मस्ती में लरज कर बोली.

अगला हफ़्ता ऐसे बीत गया कि पता ही नहीं चला. सुबह हम देर से उठते थे. नहा धो कर खाना खाकर लीना मौसाजी के साथ खेत के घर में चली जाती थी जहां रघू और रज्जू उसकी राह देखते थे. मैं राधा और मौसी घर में रह जाते थे. दिन भर मस्ती चलती थी. दोनों लंड की ऐसी भूखी थीं कि बस बारी बारी से मुझसे चुदवातीं. बीच बीच में खूब खातिरदारी करतीं, हर दो घंटे में बदाम दूध देतीं.

लीना जब शाम को आती थी तो उसका चेहरा देखते बनता था. चेहरे पर एकदम शैतानी झलकती थी और एक सुकून सा रहता था कि क्या मजा आया. ऐसी दिखती थी जैसे मलाई खाकर बिल्ली दिखती है. उसकी हालत किसी छोटे बच्चे सी थी जिसे मनचाहे खिलौने मिल जायें तो खेल खेल कर थक जाये फ़िर भी खेलता रहता है. इतना चुदवाती थी लीना कि उससे चला भी नहीं जाता था. मैंने एक बार कहा भी कि रानी, जरा सम्हाल के, इस तरह से अपनी चूत और गांड की धज्जियां मत उड़वाओ तो मुझे टोक देती "तुम्हे क्यों परेशानी हो रही है मेरे सैंया जब मैं खुश हूं? परेशान मत हो, आराम करने को तो बहुत समय मिलेगा जब हम वापस जायेंगे. तब चूत और गांड फ़िर टाइट कर लूंगी दस दिन में. तब तक इन तीनों लंडों का मजा तो ले लूं. और वो रघू और रज्जू के लंड तो बेमिसाल हैं." रघू रज्जू और मौसाजी उसके आगे पीछे ऐसे घूमते जैसे उसके गुलाम हों और वो मलिका.

रात को सब इतने थक जाते कि सो जाते. पहली रात को मौसाजी के साथ मिलकर हमने जो मस्ती की थी उसकी याद मुझे आती थी. मौसी और राधा की बुर और गांड से मुझे बहुत सुख मिलता था पर कभी कभी मौसाजी की गांड की याद आती थी, कितना मजा आया था उस रात उनकी मारने में. क्या गोरी चिकनी गरमा गरम गांड थी मौसाजी की. मैं सोचता था कि जाने के पहले कम से कम एक बार तो मौसाजी की फिर से मारूंगा.

हफ़्ते भर ये चुदाई चली. जब हमें जाने को दो दिन बचे तो उस रात मौसी ने खुद ही रोक लगा दी. "चलो, बहुत हो गया, अब सब लोग आज और कल आराम करो."

लीना पैर पटककर बोली "मौसी, ऐसे मत करो, अब दो दिन में हम चले जायेंगे, तब तक और मजा कर लेने दो"

"बेटी, तेरी चूत तो हरदम प्यासी रहती है पर इन मर्दों को देखो, इनके अब जोर से खड़े भी नहीं होते. तूने तो इनको पूरा निचोड़ लिया है. इन्हें आराम कर लेने दो. इनके लंडों में ताकत आ जायेगी. परसों एक खास प्रोग्राम करेंगे, तुम्हारे जाने के पहले"

"ठीक है मौसी" लीना के दिमाग में बात घुस गयी, शायद सच में रघू और रज्जू के लंड अब झड़ झड़ कर मुरझाने को आ गये थे "इनको आराम करने दो, पर आप की और राधा की बुर तो अभी भी ताजी है. मैं आप के साथ खेलूंगी अब. आप दोनों के साथ ठीक से वक्त नहीं निकाला मैंने, जाने के पहले अब इनको मैं मन भर के चखना चाहती हूं"

"धीरज रख बहू, सब हो जायेगा. पर आज तू भी आराम कर" मौसी लीना का चुम्मा लेकर बोलीं.

Reply With Quote
  #78  
Old 26th September 2012
kausam73 kausam73 is offline
 
Join Date: 20th October 2011
Posts: 315
kausam73 has disabled reputations
UL: 761.49 mb DL: 387.13 mb Ratio: 1.97
उस दिन भर हम लोग बस सोये, और कुछ नहीं किया. रघू और रज्जू को भी मौसाजी ने छुट्टी दे दी. राधा बस खाना बनाने आयी और चली गयी.

दूसरे दिन सुबह मौसी ने लीना को बुलाया. लीना वापस आयी तो बहुत खुश थी.

मैंने पूछा. "खुश लग रही हो डार्लिंग. कोई खुशखबर? उपवास खतम हो गया है लगता है. मौसी ने बुलाया है क्या?"

लीना बोली "एक खुशखबर और एक बुरी खबर है. बुरी खबर ये कि उपवास आज दिन भर चलेगा."

मैंने कहा "अरे रे .... मेरा लंड अब फ़िर से मस्त टनटना रहा है. दोपहर को जरा मौज मस्ती करते. फ़िर खुशखबरी क्या है?"

"मौसी ने रात के खाने के बाद सबको उनके कमरे में बुलाया है. कपड़े उतार के. बड़ी मूड में हैं. कहती हैं कि उपवास के बाद आज दावत होगी रात को. आज मजा आयेगा देखना राजा."

मैं और लीना रात को कपड़े उतार के जब मौसी के कमरे में गये तो देखा कि सब वहां जमा थे और पूरे नंगे थे. आज पलंग बाजू में कर दिया गया था और पूरे फ़र्श पर गद्दियां बिछी थीं. मौसी और राधा लिपट कर बैठी थीं. मौसाजी रज्जू और रघू के बीच बैठे थे और अपने दोनों हाथों में उनके लंड ले कर मुठिया रहे थे.

"ये तो पूरा जमघट लगा है मौसी. कोई खास बात है क्या?" मैंने पूछा.

"आज एक खास खेल होने वाला है. ट्रेन ट्रेन का" मौसी मुस्कराती हुई बोलीं.

"कैसा खेल मौसी? ट्रेन ट्रेन खेल कैसा होता है?" लीना ने पूछा.

"अरे ट्रेन में लेडीज़ और जेंट कंपार्टमेंट अलग अलग होते हैं ना. आज हम लोग भी अलग अलग रहेंगे. मर्द अलग और औरतें अलग. एक कंपार्टमेंट से दूसरे कंपार्टमेंट में जाना मना है आज"

"ये क्या मौसी? लंड अलग और चूत अलग? मुझे और लंड चाहिये" लीना पैर पटककर बोली

"मेरी चुदैल बहू रानी, तू जरूर हमारा नाम रोशन करेगी" मौसी ने लीना का हाथ पकड़कर कहा "अरी हफ़्ते भर तो लंड ही लंड लिये हैं तूने. और बाद में और ले लेना, फ़िर से जल्दी गांव आ जा, अनिल को छुट्टी न हो तो खुद अकेली आ जाना और इस बार महने भर रहना. तू कहेगी तो एक दो और मस्त लंड तेरे लिये जमा करके रखूंगी, रघू और रज्जू के एक दो चचेरे भाई हैं, बड़े मस्त जवान लौंडे हैं. आज ये खेल देख ले, तेरे मौसाजी का बहुत मन है ये खेलने का"

"पर मौसी, मुझको भी देखना है ना, अनिल कैसे ये वाला खेल खेलता है" लीना शोखी से बोली.

"अरी फ़िकर क्यों करती है, सब दिखेगा. तू मैं और राधा यहां इस तरफ़, लेडीज़ कंपार्टमेंट. और तेरे मौसाजी, रज्जू रघू और अनिल यहां दूसरी तरफ़, जेंट कंपार्टमेंट, दोनों कंपार्टमेंट यहीं इस कमरे में बनेंगे. तेरे मौसाजी तो हमेशा खेलते हैं. आज और मजा आयेगा, अनिल जो है. चल आ जा लीना बेटी" लीना का हाथ पकड़कर मौसी ने उसको पास बिठा लिया. राधा तो लीना के पीछे चिपटकर उसके मम्मे दबाने लगाने लगी थी.

"वहां से दिखेगा बेटी, फ़िकर मत कर. और अनिल को कुछ करने की जरूरत नहीं है, ये तीनों उसको सिखा देंगे"

Reply With Quote
  #79  
Old 26th September 2012
kausam73 kausam73 is offline
 
Join Date: 20th October 2011
Posts: 315
kausam73 has disabled reputations
UL: 761.49 mb DL: 387.13 mb Ratio: 1.97
"आओ अनिल. यहां बैठो" मौसाजी बोले. मैं उनके पास जाकर बैठने लगा तो उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर अपनी गोद में बिठा लिया. "वहां नहीं यहां बैठो बेटे. हम तो कब से तुम्हारा इंतजार कर रहे हैं, क्यों भाभी, खेल शुरू करें?"

"हां करो ना, जान पहचान बढ़ा लो. वैसे मैंने विमला बाई को भी बुलाया है. बड़े दिन हो गये उससे मिले. कल अचानक आ गयी तो मैंने कहा कि आज रात को आ जाओ, हमारी बहू से भी जानपहचान बढ़ा लो. बस आती होगी."

तभी बाहर से किसी औरत की आवाज आयी "मौसी, आप कहां हो?"

मौसी चिल्ला कर बोलीं. "हम यहां है मेरे कमरे में. तुम भी आ जाओ, और तैयार होकर आना विमला. खेल शुरू ही होने वाला है. बस तुम्हारा ही इंतजार था. मेरे कमरे में कपड़े निकाल के रख दे"

मैं मौसाजी की गोद में बैठ गया. उनका लंड मेरी पीठ से सटा था. "लो रघू और रज्जू, आखिर अनिल आ गया हमारे साथ. लो अब इसे ठीक से प्यार करो. तुम लोग कब से पीछे लगे थे मेरे कि अनिल भैया से ठीक से जान पहचान करा दो हमारी, अब देखें कैसी सेवा करते हो उसकी, इसकी बीवी को तो तुमने खुश कर दिया, अब इसकी खुशी पर ध्यान दो"

मुझे थोड़ा अजीब लग रहा था. मैं बोला "अरे ऐसी कोई बात नहीं है मौसाजी, आप चाहो तो अभी भी लीना को इस कंपार्टमेंट में बुला लो"

"भाभी को तो हम फ़िर से अगली बार ले ही लेंगे अनिल भैया, अभी तुम तो आओ ऐसे" रज्जू बोला.

"क्या गोरे चिट्टे हैं अनिल भैया. बड़े मस्त दिखते हैं" रघू बोला और मेरे सामने नीचे बैठ गया. मेरा लंड हाथ में लेकर बोला "और ये लंड तो देख रज्जू, एकदम रसीला गन्ना है" फ़िर उसको चूमने और चाटने लगा.

मौसाजी मेरे निपल मसलते हुए मेरी गर्दन प्यार से चूम रहे थे. रज्जू मेरी जांघों पर हाथ फ़िरा रहा था "अनिल भैया का बदन तो खोबा है खोबा भैयाजी. और इनके होंठ कितने खूबसूरत हैं! बिलकुल लीना बहूरानी जैसे ही हैं. चुम्मा लेने को मन करता है भैयाजी"

मौसाजी पीछे से मेरे बालों में सिर छुपा कर मेरी गर्दन को चूमते हुए बोले "तो ले ले ना, अनिल क्या मना कर रहा है"

रज्जू ने तुरंत मेरे होंठों पर होंठ रख दिये और मेरे पेट और जांघों को सहलाने लगा. उसका हट्टा कट्टा बदन मेरे बदन से लगा हुआ था. मैं चार पांच मिनिट बस बैठा रहा, सोचा कर लेने दो इन लोगों को उनके मन की. पर फ़िर मन में मस्ती छाने लगी. सामने मौसी और राधा जैसे लीना को पकड़कर आगे पीछे से लगी हुई थीं, देख देख कर और मस्ती चढ़ रही थी. मैंने रज्जूका लंड हाथ में ले लिया और अपनी जीभ उसके मुंह में डाल दी. रज्जू उसको चूसने लगा. उसका लंड मेरी हथेली में थिरक रहा था.

उधर रघू अब मेरा लंड मुंह में लिये था. बड़े प्यार से सुपाड़ा मुंह में लेकर उसको लड्डू जैसे गपागप चूस रहा था. रज्जू ने चुम्मा तोड़ा और मौसाजी को बोला. "भैयाजी, अनिल भैया को नीचे सुला दो तो जरा हम ठीक से उनके बदन को देख लें"

मौसाजी ने मुझे लिटा दिया और तीनों मुझसे लिपट गये. कोई मेरी जांघों को चूमता तो कोई लंड मुंह में लेता. कोई मेरे होंठ चूमता तो कोई मेरे चूतड़ सहलाने लगता. जब किसीने मेरे चूतड़ फ़ैलाकर मेरा गुदा चूसना शुरू कर दिया तो मैं मस्ती से झूम उठा.

"मां कसम क्या गांड है अनिल भैया की. एकदम माल है" मेरे पीछे से रज्जू की आवाज आयी. फ़िर उसने मुंह मेरी गांड से लगा दिया.

"मैंने बोला था ना कि कल तुझे एक मस्त गांड दूंगा. ले हो गयी तसल्ली" मौसाजी मेरे मुंह पर अपना लंड रगड़ते हुए बोले.

"अभी कहां भैयाजी, तसल्ली तो तब मिलेगी जब मैं इस खूबसूरत गांड में लंड डालकर चोदूंगा." रज्जू बोला.

"हां हां चोद लेना, पर बाद में. पहले मैं खेलूंगा. याने तुम लोगों से खिलवाऊंगा. आज बड़े दिन बाद तीन लंड एक साथ मिले हैं. आज मैं मजा करूंगा, तीनों लंड एक साथ लूंगा. अनिल बेटे, तेरे को कोई परेशानी तो नहीं है?" मैं कुछ बोल नहीं पाया क्योंकि मौसाजी का लंड मेरे मुंह में था. उधर एक लंबी सी जीभ मेरी गांड में घुस कर मुझे गुदगुदी कर रही थी.

मौसी बोलीं "अरे नहीं, अनिल को क्या परेशानी होगी. अनिल बेटे, जब से तू आया है, तेरे मौसाजी आस लगाये बैठे हैं. एक साथ तीन लंड लेना चाहते हैं. पहले ही कहने वाले थे पर बहू को देखकर मुंह में पानी आ गया, बोले, पहले तीन चार दिन बहू के बदन से खेलूंगा, उसको खुश करूंगा और फ़िर खुद की प्यास बुझाऊंगा. आज इनको खुश कर दो बेटे. सुनते हो रघू और रज्जू. आज पहले भैयाजी की कस के सेवा करो और फ़िर बाद में अनिल की. अनिल यहां से प्यासा नहीं जाना चाहिये. चूतें तो बहुत मिलती हैं उसको, उसकी खुद की बीवी इतनी मतवाली है पर ऐसे तीन तीन लंड उसने कभी नहीं लिये होंगे"

तभी दरवाजा खुला और एक औरत अंदर आयी. वह भी एकदम नंगी थी सिर्फ़ ब्रा पहने हुए थी. उमर पैंतीस के करीब होगी. गले में सोने की बड़ी माला थी, कान में झूमर और कलाइयों पर चूड़ियां. बड़ी बिंदी लगाये हुए थी, मांग में सिंदूर भरा था. ब्रा में कसी चूंचियां मोटी मोटी थीं, और बदन अच्छा खाया पिया हुआ था. पेट के नीचे घने बाल थे.

"आओ विमला, बड़ी देर लगा दी, कब से राह देख रहे थे तुम्हारी. और इस बार बहुत दिन बाद गांव आयी हो, छह महने से ज्यादा हो गये."

"देर हो गयी इसीलिये तो कपड़े उतार कर ही आयी मौसी. मेरा मतलब है बुर खोल कर आयी हूं जिसको प्यास लगी हो वो चूस ले" विमला बाई बोलीं.

मौसाजी बोले "बुर खुली है बड़ी अच्छी बात है विमला बाई पर फ़िर मम्मे क्यों नहीं खोले?"

मौसी झल्ला कर बोलीं "अब तुम क्यों औरतों के बीच बोल रहे हो? आज तुम बस लंडों की सोचो. विमला के दूध आता है सो ब्रा बांध के आयी है कि छलक न जाये, मैंने ही कहा था कि आकर हमारे यहां जो खूबसूरत मेहमान आये हैं उनको चखा जाना"

"कहां है बहू रानी? अच्छा ये है. बड़ी प्यारी है, ये तो कल जा रही होगी, आप लोगों ने इसकी खातिरदारी की या नहीं?" विमला बाई बोली. फ़िर लीना के पास बैठ गयी. लीना को गोद में खींचा और चूमने लगी.

मौसी बोलीं "ये भी कोई पूछने की बात है! बहू पहली बार हमारे यहां आई है, अब हमसे जितना हो सकता था उतनी हमने सेवा की बहू रानी की. तीनों को काम पर लगा दिया, ये तेरे दीपक भैया, रघू और रज्जू. और अनिल का जिम्मा हमने ले लिया, मैंने और राधा ने खूब चासनी चखाई है इसको"

Reply With Quote
  #80  
Old 26th September 2012
kausam73 kausam73 is offline
 
Join Date: 20th October 2011
Posts: 315
kausam73 has disabled reputations
UL: 761.49 mb DL: 387.13 mb Ratio: 1.97
अगला अपडेट आखरी होगा. अब ये पात्र भी वही करते हुए बोर हो गए होंगे. नई कहानी नए पात्रों की जरुरत है.

Reply With Quote
Reply Free Video Chat with Indian Girls


Thread Tools Search this Thread
Search this Thread:

Advanced Search

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

vB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump



All times are GMT +5.5. The time now is 01:20 AM.
Page generated in 0.01855 seconds