Xossip

Go Back Xossip > ChitChat> No Holds Barred > Astrological Remedies and Solutions to bad planetary effects

Reply Free Video Chat with Indian Girls
 
Thread Tools Search this Thread
  #61  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
II नवग्रह मंत्रII


Surya : Om hram hreem hroum sah suryaya namah

Chandra : Om shram sreem shraum sah chandraya namah

Mangala : Om kram kreem kroum sah bhaumaya namah

Budha : Om bram breem broum sah budhaya namah

Guru : Om jhram jhreem jroum sah gurave namah

Shukra : Om dram dreem droum sah shukraya namah

Shani : Om pram preem proum sah shanaischaraya namah

Rahu : Om bhram bhreem bhroum sah rahave namah

Ketu : Om shram shreem shroum sah ketave namah
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #62  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
मंगल स्नान

जिस व्यक्ति पर मंगल ग्रह की महादशा या अन्तर्दशा चल रही हो उसे मंगल ग्रह को शुभ बनाने के लिए अग्रलिखित वस्तुओं को एकत्रित करके पानी में डालकर उस पानी से स्नान करना चाहिए

. मंगल स्नान की वस्तुएं – सोंठ, सोंफ, मौलसिरी के फूल, सिंगरक, मॉल कंगनी और लाल चन्दन.

इन सभी को एक साथ पानी में भिगोकर एक रत के लिए रख दें दूसरे दिन सुबह पानी को छानकर उससे स्नान कर लें.
इन वस्तुओं को पानी में डालने के लिए मिट्टी के कलश का प्रयोग किया जा सकता है.
मंगल ग्रह के कारन हो रही रोग पीड़ा को शांत करने के लिए भी यह प्रयोग बहुत उपयोगी है.
जिस मंगली कन्या के विवाह में विलम्ब हो रहा हो उसे भी यह प्रयोग करना चाहिए. यह प्रयोग शुक्ल पक्ष में मंगलवार को शुरू करना है. प्रत्येक मंगलवार को यह स्नान करना
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #63  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
मंगली दोष निवारण के सरल उपाय

जिस व्यक्ति की कुंडली में मंगली दोष बन रहा हो उस व्यक्ति को अग्रलिखित उपाय करने चाहिए जिससे की मंगली दोष के नकारात्मक प्रभाव से वह बच सकें -
- मीठी रोटियां दान करें .
- मंगलवार को सुन्दरकाण्ड का पाठ करें.
- बंदरों को लाल मीठी वास्तु खिलाएं.
- मंगलवार को बतासे या रेवड़ियाँ पानी में प्रवाहित करें.
- आटे की लोई में गुड़ रखकर गाय को खिला दें.
- मंगली कन्यायें गौरी पूजन तथा श्रीमद्भागवत के 18 वें अध्याय के नवें श्लोक का जप अवश्य करें.
- प्रत्येक मंगलवार को मंगल स्नान करें.
- विवाह के समय कुंडली मिलान अवश्य करें.
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #64  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
नवग्रहों हेतु पृथक-पृथक दान

सूर्य - गेहूं, स्वर्ण स्क्तक्, वस्त्र, ताम्र पात्र, गोदान, घी, गुड, माणिक्य, मसूर।

चंद्र- शंख, चांदी, चामर, कपूर, मोती श्वेत वस्त्र, यज्ञोपवीत, दही, चावल।

मंगल - मंगा, प्रवास, गेहूं, मसूर, लाल बैल, रत्नवस्त्र, ताम्रपात्र कनेर पुष्प, स्वर्ण, गुड, चना, रक्त चंदन।

बुध - पन्ना, नील वस्त्र, कांसा फल, हाथीदांत, चंदी, मेष, स्वर्ण।

गुरू- अश्व, स्वर्ण, पीत बर, पीला धान, गौ, हीरा, स्वर्ण, चावल, उत्तम गंध, घी।


शनि - नीलम, तिल कुलथ, भैंस, लौहा, काली गाय, उडद, तेल, काला कंबल।

राहु - गोमेद, घोडा, नीला कपडा, कम्बल, तिल, तेल, लौह, ताम्र पात्र, स्वर्ण नाग।

केतु - लहसुनिया, तिल, तेल कम्बल, कस्तूरी, ऊन, काला वस्त्र।
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #65  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
सब कुछ लुटने के बाद भी भविष्य बचा रहता है अपने लिए तो सभी करते हैं दूसरों के लिए कर के देखो
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #66  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
हम सभी जानते है की कुंडली कुल बारह भाव होते है सभी भावे के अलग-अलग स्वामी होते है … आप अपनी कुंडली में खुद ही देर्ख सकते है की किस भाव में कौन सा गृह ख़राब है , और उसका उपाय कैसे करें. जहाँतक हो सके उपाय किसी विद्वान पंडित से ही कुंडली दिखाकर कराएँ अन्यथा लाभ के बजे हनी भी हो सकती है .
Quote:
लाल किताब के अनुसार जिस ग्रह से संबंधित वस्*तुओं को
- प्रथम भाव में पहुंचाना हो उसे गले में पहनिए
- दूसरे भाव में पहुंचाने के लिए मंदिर में रखिए
- तीसरे भाव में पहुंचाने के लिए संबंधित वस्*तु को हाथ में धारण करें
- चौथे भाव में पहुंचाने के लिए पानी में बहाएं
- पांचवे भाव के लिए स्*कूल में पहुंचाएं,
- छठे भाव में पहुंचाने के लिए कुएं में डालें
- सातवें भाव के लिए धरती में दबाएं
- आठवें भाव के लिए श्*मशान में दबाएं
- नौंवे भाव के लिए मंदिर में दें
- दसवें भाव के लिए पिता या सरकारी भवन को दें
- ग्*यारहवें भाव का उपाय नहीं
और बारहवें भाव के लिए ग्रह से संबंधित चीजें छत पर रखें।
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #67  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
प्रत्येक जातक की कुंडली में अशुभ ग्रहों की स्थिति अलग-अलग रहती है, परंतु कुछ कर्मों के आधार पर भी ग्रह आपको अशुभ फल देते हैं। व्यक्ति के कर्म-कुकर्म के द्वारा किस प्रकार नवग्रह के अशुभ फल प्राप्त होते हैं, आइए जानते हैं :

चंद्र : सम्मानजनक स्त्रियों को कष्ट देने जैसे, माता, नानी, दादी, सास एवं इनके पद के समान वाली स्त्रियों को कष्ट देने एवं किसी से द्वेषपूर्वक ली वस्तु के कारण चंद्रमा अशुभ फल देता है।

बुध : अपनी बहन अथवा बेटी को कष्ट देने एवं बुआ को कष्ट देने, साली एवं मौसी को कष्ट देने से बुध अशुभ फल देता है। इसी के साथ हिजड़े को कष्ट देने पर भी बुध अशुभ फल देता है।
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #68  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
गुरु : अपने पिता, दादा, नाना को कष्ट देने अथवा इनके समान सम्मानित व्यक्ति को कष्ट देने एवं साधु संतों को कष्ट देने से गुरु अशुभ फल देता है।


सूर्य : किसी का दिल दुखाने (कष्ट देने), किसी भी प्रकार का टैक्स चोरी करने एवं किसी भी जीव की आत्मा को ठेस पहुँचाने पर सूर्य अशुभ फल देता है।
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #69  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
शुक्र : अपने जीवनसाथी को कष्ट देने, किसी भी प्रकार के गंदे वस्त्र पहनने, घर में गंदे एवं फटे पुराने वस्त्र रखने से शुभ-अशुभ फल देता है।

मंगल : भाई से झगड़ा करने, भाई के साथ धोखा करने से मंगल के अशुभ फल शुरू हो जाते हैं। इसी के साथ अपनी पत्नी के भाई (साले) का अपमान करने पर भी मंगल अशुभ फल देता है।
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
  #70  
Old 4th June 2012
desiamit's Avatar
desiamit desiamit is offline
I Am King
 
Join Date: 28th December 2006
Location: palace
Posts: 24,819
Rep Power: 56 Points: 13163
desiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universedesiamit is one with the universe
शनि : ताऊ एवं चाचा से झगड़ा करने एवं किसी भी मेहनतम करने वाले व्यक्ति को कष्ट देने, अपशब्द कहने एवं इसी के साथ शराब, माँस खाने पीने से शनि देव अशुभ फल देते हैं। कुछ लोग मकान एवं दुकान किराये से लेने के बाद खाली नहीं करते अथवा उसके बदले पैसा माँगते हैं तो शनि अशुभ फल देने लगता है।
______________________________


Reply With Quote
Have you seen the announcement yet?
Reply Free Video Chat with Indian Girls


Thread Tools Search this Thread
Search this Thread:

Advanced Search

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

vB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump


All times are GMT +5.5. The time now is 09:43 AM.
Page generated in 0.02012 seconds